पछताना पड़ा नकलची कौए को

0
197
short stories

बहुत पुरानी बात है। पहाड़ पर एक बाज रहता था। वहीं पहाड़ की तलहटी पर एक बरगद का पेड़ था, जिस पर एक कौआ रहता था। कौआ मूर्ख था, वह बिना सोचे कुछ न कुछ ऐसा कर देता था, जिसकी वजह से उसे नुकसान उठाना पड़ता। लेकिन उसने अपनी आदत में सुधार नहीं किया। वह पहाड़ की ऊंचाई की ओर देखता तो वहां बाज को उड़ते हुए देखता।

बाज भोजन की तलाश में उड़ता और अपनी तेज नजरों से भोजन को देखते ही उस पर झपट जाता। एक दिन कौए ने देखा कि बाज तेजी से जमीन पर पहुंचा और वहां घूम रहे खरगोश के छोटे से बच्चे पर झपट गया। देखते ही देखते बाज खरगोश को अपने मजबूत पंजों में फंसाकर उड़ान भरते हुए एक टीले पर बैठ गया। यह सब इतनी तेजी से हुआ कि खरगोश को संभलने का मौका तक नहीं मिला। कौआ गौर से यह सब देख रहा था।

कौए ने स्वयं से कहा, यह भी कोई बड़ा काम हुआ भला। यह तो मैं भी कर सकता हूं। दूसरे दिन सुबह कौए ने एक चूहे को चट्टान में बने बिल से निकलते देखा। उसने बाज की नकल करते हुए चूहे पर झपटने की कोशिश की। जैसे ही उसने चूहे को पकड़ने के लिए चोंच आगे बढ़ाई, चूहा वहां से हटकर बिल में घुस गया और कौए की चोंच चट्टान पर जा लगी। कौआ दर्द से रोने लगा। उसने ऊपर की ओर देखा तो बाज को उड़ते हुए पाया। तभी बाज उसके पास आया और बोला, हर किसी की अपनी क्षमता होती है, इसलिए नकल करना भी आसान नहीं है। इस घटना के बाद कौए ने निश्चय कर लिया कि वह किसी की नकल नहीं करेगा, बल्कि उन क्षमताओं के साथ खुशी खुशी रहेगा, जो ईश्वर से उसको मिली हैं।

LEAVE A REPLY