DUG DUGI LETTER

डुगी डुगी पत्रिका क्यों? जबकि बच्चों और बड़ों के लिए बहुत सारी पत्रिकाएं बाजार में उपलब्ध हैं, प्रिंट में भी और डिजीटल संस्करणों में भी। आपका सवाल सही है, हम इससे इनकार नहीं कर रहे।
हम बच्चों को पत्रिका के पाठक की भूमिका तक ही सीमित नहीं रखना चाहते। हमारा प्रयास है कि बच्चे पत्रिकाओं के निर्माण में मुख्य भूमिका निभाएं। हम उनकी रचनात्मकता और अभिनव पहल को सबके सामने लाना चाहते हैं। उत्तराखंड का हर बच्चा, चाहे वो ग्रामीण क्षेत्र में रहता है या फिर शहरी क्षेत्र में, डुगडुगी पत्रिका में योगदान प्रदान कर सकता है। हमारे पास सीमित संसाधन हैं, इसलिए यह पत्रिका डिजीटल यानी पीडीएफ में होगी। इसको हम अपनी वेबसाइट पर भी उपलब्ध कराएंगे।
हम जानते हैं कि बच्चे कविताएं, किस्से, कहानियां और बहुत सारी बातें, जो वो अपने आसपास देखते हैं, लिख सकते हैं। बच्चे अपनी चित्रकला, फोटोग्राफी, अपने खेलकूद को ज्यादा से ज्यादा लोगों के सामने ले जाना चाहते हैं। इस कार्य में अगर आवश्यकता है तो उनको एक ऐसा मंच प्रदान करने की, जिसके निर्माण में स्वयं उनकी भूमिका महत्वपूर्ण हो।
उनमें यह आत्मविश्वास जगाने की आवश्यकता है कि वो शुरुआत तो करें, एक दिन ऐसा भी आएगा कि वो लिखेंगे और दुनिया पढ़ेगी। हमारा उद्देश्य है कि बच्चों को रचनात्मक लेखन के निरंतर अभ्यास से जोड़ें। हम उनकी हर क्रिएटिविटी को आगे बढ़ता देखना चाहते हैं। हमारा मानना है कि यह तभी संभव होगा, जब बच्चे स्वयं किसी रचनात्मक मंच का हिस्सा बनें। उनके मन में यह विश्वास पैदा हो कि वो भी इस अभिनव पहल में समान रूप से महत्वपूर्ण हैं।
यह पत्रिका स्कूलों के माध्यम से बच्चों से वार्तालाप करेगी। शिक्षकों से बच्चों के लेखन, रचनात्मक गतिविधियों को एकत्र किया जाएगा। हम मानते हैं कि शिक्षकों के सहयोग के बिना हम इस पहल को एक कदम भी आगे नहीं बढ़ा सकते। शिक्षक ही तो बच्चों और पत्रिका के बीच की अहम कड़ी हैं। शिक्षकों से भी विनम्र निवेदन है कि उनका मार्गदर्शन पत्रिका को मिलता रहे।
हम उनकी सफलता के हर पड़ाव के साक्षी होना चाहते हैं। ऐसा तभी संभव होगा, जब हम उनके साथ होंगे। इस बात की पूरी उम्मीद ही नहीं बल्कि पूरा विश्वास है कि तक धिनाधिन की डुगडुगी पत्रिका अपनी जिम्मेदाारियों को निभाएगी।

DUG DUGI JUNE 2020 

DUG DUGI JULY 2020