मतदान प्रतिशत बढ़ाएं, सोच समझकर चुनें जनप्रतिनिधि

0
420

देहरादून। उत्तराखंड सिटीजन इनीशियेटिव ने विधानसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने की अपील करते हुए कहा कि राज्य के विकास के लिए जरूरी है कि अच्छी साख वाले व्यक्तियों को अपना प्रतिनिधि चुना जाए। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक संख्या में मतदान करने पहुंचे, नहीं तो कम वोटिंग प्रतिशत में चुने जाने वाले लोग वास्तव में जनप्रतिनिधि नहीं होते।

उत्तराखंड प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता में संस्था के मनोज गैरोला ने कहा कि मतदाता अपने विधायकों का मूल्यांकन करें। प्रत्याशियों से पूछे कि उन्होंने पिछले पांच साल में अपने क्षेत्रों में कौन से महत्वपूर्ण पांच काम किए। विधायक निधि का उपयाेग किस प्रकार किया गया है। क्या आप अपने जनप्रितनिधि से आसानी से मिल सकते हैं या नहीं। चुनाव जीतने के बाद क्या प्रतिनिधि ने अपने इलाके में भ्रमण किया भी या नहीं। उन्होंने कहा कि यह जानने की जरूरत है कि चुनाव लड़ने वाले विधायकों के वर्ष 2012 में वित्तीय संसाधन क्या थे और आज की तारीख में उनके पास वित्तीय संसाधन क्या हैं। यह भी जागरूकता होनी चाहिए कि उनके चुने हुए प्रत्याशियों ने विधानसभा के प्रश्न काल में भाग लिया है या नहीं।

संस्था के प्रतिनिधि दिनेश भट्ट ने बताया कि आज समय की मांग है कि वोटरों को जानना चाहिए कि उनके प्रत्याशियों ने दस साल मे समाज के उत्थान की कौन सी गतिविधियां संचालित कीं और उनके वादों पर काम भी हुआ है कि नहीं। संगठन के प्रतिनिधि आशीष जोशी ने कहा कि हम सभी वाेटरों से अपील करते हैं कि वे एडीआर की वेबसाइट पर प्रत्याशी की जांच सूची का अध्य्यन करके मताधिकार का इस्तेमाल करें। पूर्व के 2012 के चुनाव में राज्य में 70 फीसदी मतदान हुआ, जबकि त्रिपुरा में 2013 में 93 फीसदी मतदान हुआ था, हम चाहते ंहै कि उत्तराखंड में भी 90 फीसदी से ज्यादा मतदान हो।

LEAVE A REPLY