मैं मौत से भी ज्यादा तकलीफ देती हूं…

0
124

जो यह कहते हैं कि ईश्वर हर जीव में विराजमान हैं, शायद वो मुझे भूल गए। मैं धरती पर जन्में हर छोटे से छोटे और बड़े से बड़े जीव में वास करती हूं। क्या अमीर और क्या गरीब, मैं फर्क नहीं करती। मैं किसी में शांत नहीं हो सकी। मेरे लिए घरबार तक छोड़ दिया लोगों ने। आज भी मेरे सतायो की इस दुनिया में कोई कमी नहीं है। बेमौत मारने में कोई फर्क नहीं करती मैं, चाहे कोई इंसान हो या फिर पशु। मुझे पूजेे बिना कोई इस धरती पर नहीं टिक सकता, यह मेरा दावा है।

वक्त बदल रहा है और मेरा दायरा भी। महंगाई बढ़ने के साथ मेरे सताए लोगों की तादाद भी बढ़ती जाती है। मेरी ताकत को जानना है कि मुझसे घबराकर मौत को गले लगा चुके उन लोगों के घरों में जाकर पूछ लो। किसी घर में तो तुम्हें कोई यह बताने वाला नहीं मिलेगा कि मैं कितनी तकलीफ देती हूं। क्योंकि दूध पीते से लेकर कमाने वालों तक को मौत के आगोश में जाने के लिए मजबूर जो कर दिया था मैंने। अब तो समझ गए न कि मैं मौत से भी ज्यादा तकलीफ देती हूं। मैं वोटों के सौदागरों को अपनी सियासत चमकाने का मौका भी देती हूं। जब मैं किसी की जान लेती हूं तो कुछ दिन के लिए सुर्खियां बन जाती हूं। सत्ता के खिलाफ सियासी रंग गाढ़ा हो जाता है और घिसा पिटा राग सुनकर कान पक जाते हैं अवाम के। मेरे दंश से गुमनाम मारे जाने वाले सरकारी कफन में दफन कर दिए जाते हैॆं।
मेरे लिए दिनरात दौड़ते हैं लोग। कई तो तुम को शहरों में कचरे के ढेरों के पास मिल जाएंगे, वो चाहते हैं कि मैं हमेशा शांत रहूं, भले ही शरीर तपता या कंपकंपाता रहे। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा के आसपास भी मेरे लिए जुट जाते हैं तमाम। धर्मस्थलों के आसपास मंडराने वाले इन लोगों को मुझसे लड़ने की ताकत मिलती है। किसी के लिए मैं पेट भरने और किसी के लिए दूसरों के मुंह से अन्न छिनकर गोदाम भरने का मसला हूं मैं। धन, संपदा और सत्ता के पीछे भागने वालों की बदौलत ही मेरा दायरा और रूप बदल गया।
अब मैं उनको भी तड़पा रही हूं, जिनके गोदाम भरे पड़े हैं। मैं इनमें कई रूपों में विराज गई हूं और यह तय मानिये कभी शांत नहीं होने वाली। इनकी रगों में मेरा आकार सुरसा के मुंह की तरह फैलता जा रहा है। ये मुझे धन, सत्ता, सुख, अय्यासी और समृद्धि में तलाशते हैं, उनको मौज तो कराती हूं, लेकिन शांति से बैठने नहीं देती। मैं उनमें लगातार बढ़ती जाती हूं। रोज सुनते होगे कि किसी के घर में करोड़ों में दीमक लग गई और कोई दाने-दाने को मोहताज होकर सड़कों पर जिंदगी गुजार रहा है। सत्ता, धन, पद प्रतिष्ठा और बाहुबल के लिए मैंने इनसे न जाने कितने लोगों का घर बार छिनवा लिया होगा। मेरे लिए किसी शरीर से प्राण तक निकालने पड़ें तो इनको मंजूर है। मैं सब में हूं, किसी को दिनभर दो वक्त के लिए सताती हूं और किसी को पूरी जिंदगी के लिए तरसाती हूं। सच तो यह है कि केवल दो वक्त वाले मुझे शांत कर देते हैं, लेकिन पूरी जिंदगी वाले तो हमेशा बेचैन हैं और हमेशा रहेंगे।

LEAVE A REPLY