घुटनों के दर्द के कारण और निवारण

0
40

लोग अक्सर घुटनों में दर्द की शिकायत करते हैं। 35 वर्ष आयु पार के लोगों में अर्थराइटिस की समस्या सामने आ रही है। बुजुर्गों के साथ तो यह दिक्कत आम हो गई है। होता यह है कि हमारे चलने के दौरान घुटने गुरुत्वाकर्षण के विरुद्ध काम करते हैं। इसलिए इस पर असर पड़ता है। ज्यादा आयु के लोगों के घुटनों पर अधिक असर पड़ चुका होता है और वो काफी नुकसान झेल चुके होते हैं। घुटनों में दर्द के अन्य कई कारण हो सकते हैं। कुछ खास वजह पर चर्चा करते हैं। 

घुटने की हड्डियों की कवच की तरह रक्षा करने वाली कार्टिलेज टूटने से ऑस्टियोपो‍रोसिस की शिकायत होती है। कार्टिलेज टूटने से घुटने में दर्द होता है। सही समय पर इलाज के अभाव में दर्द बढ़ने की आशंका भी बढ़ती जाती है। 65 साल से अधिक आयु के लोगों में ऑस्टियोपो‍रोसिस की आशंका ज्यादा होती है। विशेषज्ञों के अनुसार अधिक उम्र के अधिकतर लोगों में घुटने में दर्द की बड़ी वजह ऑस्टियोपो‍रोसिस है। 

मोटापा यानी अधिक वजन होने की वजह से घुटनों पर काफी दबाव बनता है। पूरे शरीर का वजन घुटनों को ही सहना पड़ता है। ऐसी स्थिति में घुटनों में दर्द की शिकायत होती है। 60 से अधिक आयु और वजन अधिक होने की स्थिति में घुटनों के जोड़ों पर काफी दबाव पड़ चुका होता है। इस वजह से ऑस्टियोपो‍रोसिस का खतरा भी बढ़ जाता है। वजन घटाना है तो यह बात जरूर जानिये

युवावस्था से वृद्धावस्था की आयु के बीच शरीर की मांसपेशियां सिकुड़ने लगती हैं। इससे मांसपेशियों की ताकत कम होती जाती है। आयु के साथ मांसपेशियों में बदलाव की वजह से हमारे पैरों पर ज्यादा दबाव पड़ता है। ऐसी स्थिति में घुटनों में दर्द होता है। 

ये तरीके अपनाकर बचें घुटनों के दर्द सेः सतर्कता और छोटी-छोटी पहल से आप शारीरिक दिक्कतों से बच सकते हैं। कुछ बातों का ध्यान रखें और घुटनों में होने वाले दर्द से राहत पा सकते हैं या फिर दर्द को कुछ कम कर सकते हैं। कुछ उपाय बताए जाते हैं, जो राहत देंगे। नींबू के छिलकों में है घुटनों के दर्द से लड़ने की ताकत

अधिक मोटापा बीमारियों की वजह है। माेटापे में वजन ज्यादा होने से घुटने के ऑस्टियोपो‍रोसिस का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में वजन कम करने की ओर ध्यान दें। इससे आपको काफी राहत मिलेगी। 

शारीरिक रूप से फिट रहने के लिए डॉक्टर एक्सरसाइज पर जोर देते हैं। इससे मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। पैदल चलना घुटने के अर्थराइटिस के मरीजों के लिए फायदेमंद हो सकता है। लेकिन इसके लिए अपने डॉक्टर से राय जरूर लें और उनके मार्गदर्शन के अनुसार ही कार्य करें। 

LEAVE A REPLY