शेर को लात मारकर चलती बनी लोमड़ी

0
808
Short stories

वो दिन जंगल के राजा शेर का सबसे खराब दिन था, जिस दिन एक लोमड़ी ने उसको एक नहीं पूरी पांच किक मारीं और वह कुछ भी नहीं कर सका। हुआ यह कि शेर कुछ थका हुआ था। सुबह-सुबह उसने एक खरगोश को अपनी गुफा के पास घूमते हुए देखा। शेर न सोचा, ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा, चलो ब्रेकफास्ट का इंतजाम तो हो ही गया। उसने खरगोश को पकड़ना चाहा, लेकिन चालाक खरगोश गच्चा देकर भाग गया।

खरगोश को पकड़ने के लिए शेर ने जैसे ही छलांग लगाई, वह झाड़ियों में गिर गया। झाड़ियों से बाहर निकलने के चक्कर में उसके पंजे में कांटा लग गया। दर्द के मारे शेर तड़पने लगा। उधर, उसे खरगोश भी हाथ नहीं लगने का गम सता रहा था। शेर को दर्द से कराहता हुआ देखने के बाद भी जानवर उसकी कोई मदद नहीं कर पा रहे थे। शेर ने अपने पंजों से कांटा निकालने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सका।

उसने मदद के लिए जानवरों से विनती की, लेकिन दहशत के कारण कोई उसके पास जाने को तैयार नहीं था। दोपहर हो गई, शेर से दर्द सहन नहीं हो रहा था। शेर ने वहां से गुजर रही लोमड़ी से गुजारिश की, उसकी मदद कर दे। चालाक लोमड़ी ने कहा, देखो- तुम्हारी मदद तो कर दूंगी, लेकिन तुम्हें मेरी एक शर्त माननी होगी। शेर ने पूछा, कैसी शर्त, जल्दी बताओ, मैं तुम्हारी हर बात मानने को तैयार हूं। पर मेरे पंजे से यह कांटा निकाल दो।

लोमड़ी ने कहा, मैं तुमसे लजीज भोजन और पैसे नहीं मांग रही। इसलिए घबराओ तो बिल्कुल भी नहीं। लाचार शेर ने कहा, तुम बताओ तो सही, क्या चाहिए। लोमड़ी ने कहा, कांटा निकलवाने से पहले तुम्हें मेरी पांच किक खानी होंगी। शेर ने गुस्से में दहाड़ते हुए कहा, क्या तुम जानती हो, किससे बात कर रही हो। शायद तुम नहीं जानती, मैं इतना भी मजबूर नहीं हुआ हूं कि तुम्हारी लातें खानी पड़ें। लोमड़ी ने जवाब दिया, सोच लो। कोई जल्दी नहीं है। किक खाने को तैयार हो तो एक ऐसे छोटे से जानवर को बुलाती हूं, जो एक सेकेंड में तुम्हारे पंजे से कांटा निकाल देगा। मंजूर नहीं है तो तड़पते रहो दर्द से, कोई नहीं आएगा तुम्हारे पास। सभी तो तुमसे डरते हैं।

लोमड़ी जाने लगी। तभी शेर ने आवाज लगाई, रुक जाओ, मुझे मंजूर है। लोमड़ी ने कहा, ठीक है, मैं अभी लेकर आती हूं, उस जानवर को, जो तुम्हारे पंजे से कांटा निकालेगा। थोड़ी देर में लोमड़ी एक छोटे से जानवर के साथ वहां पहुंची और शेर से कहा, क्या किक खाने के लिए तैयार हो। शेर ने कहा, जैसी तुम्हारी मर्जी। शेर को मन ही मन काफी गुस्सा आ रहा था, पर वो दर्द की वजह से शांत रहा। लोमड़ी ने एक के बाद एक करके शेर को पूरी पांच किक मारीं। इसके बाद लोमड़ी वहां से दूर भाग गई। लोमड़ी के लाए छोटे से जानवर ने शेर के पंजे से कांटा निकाल दिया, लेकिन गुस्साया शेर इस जानवर को भी नहीं खा सकता था, क्योंकि यह जानवर था साही, जिसके पूरे शरीर पर नुकीले कांटे लगे रहते हैं। शेर ने साही को जाने दिया, वह फिर से कोई मुसीबत मोल नहीं ले सकता था। शेर ने लोमड़ी के इंटेलीजेंस की तारीफ करते हुए कहा, मानना पड़ेगा लोमड़ी को। मुझे किक भी मार गई और कांटा निकालने वाले जानवर को भी बचा ले गई।

LEAVE A REPLY