बारिश के मौसम में स्वास्थ्य का रखें ध्यान 

0
1192

भीषण गर्मी के बाद मानसून का मौसम राहत की बारिश लाने के साथ ही ठंडक लाता है। इसमें चारों ओर हरियाली होने के साथ ही एक अलग ही अहसास होता है। इस मौसम में हमें स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि पानी खराब होने के साथ ही वातावरण में नमी से कई रोगों का खतरा बढ़ जाता है।
मानसून में पाचन क्रिया धीमी गति से काम करती है, इस मौसम में तला भुना खाने का मन करता है पर ध्यान रहे इस प्रकार का खाना आपको नुकसान पहुंचा सकता है। इस मौसम में हल्का व कम मसालेदार खाना खाएं, विटामिन युक्त चीजें खाएं। बाजार के कटे हुए फल न खाएं, बासी जूस पीने से बचें। ताजा बना खाना खाएं और फस्ट फूड का सेवन जहां तक हो सके न करें।
बारिश के कारण भाप युक्त हवा चलने से हमारी पाचन प्रणाली पर प्रभाव पड़ता है। कफ जमने की शिकायत बढ़ती है। वायु, पित्त और कफ इन तीनों प्रकार के दोषों के कारण कई तरह के रोग होने की आशंका रहती है। इसलिए मौसम के दौरान ज्यादा लवणयुक्त, अम्लीय पदार्थ का सेवन करने से बचें। तिल-तेल, बैंगन, सरसों, राई का भी सेवन नहीं करना चाहिए।
खाने के साथ पीने के पानी से भी सबसे ज्यादा संक्रमण फैलता है। जी हां बरसात में डायरिया, हैजा, पीलिया और बुखार जैसी अधिकतर बीमारियां पानी के ही कारण होती हैं। इसलिए बेहतर होगा कि फिल्टर का पानी पीएं, नहीं तो पानी उबाल कर पीएं और दिन भर में ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की कोशिश करें।
मानसून में जगह-जगह पानी जमा होने के कारण मच्छर ज्यादा पनपने लगते है। और मच्छरों की वजह से डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियों का सामना करना पड सकता है। इसलिए इनसे बचने के सभी उपाय अपनाएW। पूरी बांह के कपड़ें पहनें।
बरसात के मौसम में दूध और बटर मिल्क काफी हितकारी होते हैं। बटरमिल्क जहां हमारी पाचन क्रिया को दुरस्त करता है, वहीं बरसात के मौसम में रोजाना एक गिलास गर्म दूध हमें संक्रमण से बचाता है।
मानसून में नाश्ता भारी, लेकिन रात का खाना हल्का होना चाहिए। ऐसा करने से आपका पाचनतंत्र ठीक रहता है। रात को सोने से कम से कम एक घंटा पहले खाना खाएं और खाना खाने के बाद टहलना न भूलें।
डेंगू स्थिर पानी से पैदा होता है। इसलिए घर के आस-पास पानी जमा न होने दें, पानी के कंटेनरों को कवर कर दें, या खाली कर दें जिससे मच्छर पैदा न हो और आप मच्छरों के काटे जाने के जोखिम से बच सकें।
बरसात में भीग जाने पर कई रोग होने की आशंका बनी रहती है, लेकिन अगर अदरक और तुलसी के पत्तों की चाय पी ली जाएं तो किसी भी तरह का इंफेक्शन होने का खतरा टाला जा सकता है। इसके अलावा नियमित रूप से प्याज और अदरक भी हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता और पाचन क्रिया को मजबूत करते हैं।

LEAVE A REPLY