सपनों के साथ याद बनती सड़कें !

0
184
  • जे. पी. मैठाणी

सड़कें धूल, मिटटी, गारे और फिसलन से भरी
दौड़ती रही – भागती रही – भागती रही और दौड़ती रही ..
समय के साथ और कभी उसको पीछे छोड़ती हुई सड़कें !
सड़कें मंजिलों तक ले जाने का वायदा करती
रास्तों में कभी भटक जाती सड़कें !

ये क्रम कभी छोटा होता कभी बड़ा होता
सड़कें – सपनों के साथ – आपने के साथ ….
गायब हो जाती
फिर छोर से उभर आती क्षितिज की लाइन
और उस पर उभर आती धूमिल होती सड़कें !

जंगलों के बीच -विशाल दिखती शहरों में दुबक जाती सड़कें !
यादों के साथ सपने बनती और सपनों के साथ याद बनती सड़कें !
दोस्तों के साथ – स्मृति और समय के साथ लकीर बनती सड़कें !
बतियाती, फोनियाती ,भटकती और भटकाती – मंजिलों के पास
ले जाती सर्पीली सड़कें !

घरों से पलायित समाज को गाँव की पगडंडियों से जोड़ती सड़कें !
पीढ़ियों के साथ बिताये गए समय की बात सुनाती सड़कें ..
तुम कभी इतनी शांत क्यूँ हो जाती हो और कभी बेहद हल्ले से भरी क्यूँ !
तुम कभी सहमा देती ढलान पर और कभी आगोश में ले लेती !
सड़क तुम एक पूरा मनोविज्ञान हो – लक्ष्य हो – इतिहास हो और भूगोल भी !

तुम्हारी गति से अधिक भागते लोगों और समय को तुम ठोकर देती !
समझ देती हो – सिखाती हो जीवन के पाठ
प्रेम के गीत – खुशियों के मायने और पीछे छूटते समय की याद !

वर्षों से सभ्यता के विकास के साथ – तुम्हारा स्वरुप बदला
पर, सड़क तुम्हारा काम नहीं बदला तुम लोगों को जोड़ती हो
प्रेम उपजाति और पनपाती हो – मित्रों को जोड़ती हो !
सड़क तुम सड़क ही रहना – बदल मत जाना समय के फेर में !
कि,तुम्हारे बिना कई मुसाफिर अपनी मंजिलों तक पहुंचे ही ना..

वर्ष के जाने की पीड़ा के माहौल में – तुम खुशियों की शीत भरे
गीतों की जनक बन जाना
तुम पहाड़ की उष्मा – जंगलों की जीवन रेखा और दोस्तों का प्रेम बन जाना !
तुम भूलना मत तुम सड़क हो …
मानव को उसकी मंजिल तक ले जाने वाली हो तुम
सड़क !

 

LEAVE A REPLY