वह धर्म बुनती है

0
651

वह धर्म बुनती है

जब मंद पड़ने लगता है
आसमान में तारों का शोर!
रह जाता है चाँद के साथ शुक्र तारा
वह रोज उठती है,
सूरज की आँखें खुलने से पहले।

चुनती है खंडित पाषाणों से
व्यवस्थाओं को
और बो देती है अपने आँगन में।

SONIA
सोनिया प्रदीप गौड़

धर्म बुना गया है उसकी देह में
रात की लटों में उसे बरगला के
उधेड़ दिया जाता है।,
वो रोज उठ के
धर्म सिलती है,
ख्याल सुलगाती है
रात के लिए भूख पकाती है।

अचानक मुक्त हो जाती है
उन दिनों,
खंडित व्यवस्थाओं को सींचने से
धर्म को बुनने से,
कलम थामती है
खाली कागज में
शब्दों और विचारों का अभिसार कराती है
और दर्द के साथ जन्म होता है”एक नई कविता का”

पर वह कहता है-
तुम व्यवस्था पोषित करो
भूख पकाओ, लेकिन कविता मत रचो
क्योंकि स्त्री होकर देह पर कविता करना
धर्म पर सवाल करना है,
और स्त्रियां सवाल नहीं करती।

इन दिनों वह जब उठती है
देवदासियों की भटकती रूहों की चीखें सुनती है
घूँघट काढे लड़खड़ाती औरतें देखती है
पसीने से सनी काले अधकटे पंखों वाली सुन्दर सुन्दर चिड़ियों को देखती है,
जूतों की महक से सने पैरों को सूँघती है,
धब्बेदार कपड़ों पे मक्खियाँ भिन्नभिनाते देखती है,
पर अब कविता नहीं रचती
वो कवि नहीं है—-वो सिर्फ एक औरत है
जो रोज सवेरे उठते ही धर्म बुनती है!

  • सोनिया प्रदीप गौड़

    Tags

 

She , religion , weave , fabric , morning , woman , birds, newslive24x7.com

LEAVE A REPLY