त्रिवेंद्र और योगी आदित्यनाथ ने किया श्री बदरीनाथ धाम में पर्यटक आवास गृह का शिलान्यास

0
78
   
श्री बदरीनाथ धाम। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को भगवान श्री बदरीनाथ के दर्शन एवं पूजा-अर्चना की। दोनों मुख्यमंत्रियों ने मंदिर के गर्भ गृह में भगवान विष्णु की आराधना की तथा राज्यवासियों एवं सभी देशवासियों की सुख-समृद्धि एवं मंगलमय जीवन की कामना की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने श्री बदरीनाथ धाम में उत्तर प्रदेश के पर्यटक आवास गृह का भूमि पूजन कर शिलान्यास किया।
दोनों मुख्यमंत्रियों ने भारत के अन्तिम गांव माणा, भीम पुल एवं सरस्वती पुल का भ्रमण किया। मुख्यमंत्री आईटीबीपी, सेना एवं बीआरओ के जवानों से मिले और उनका हौसला बढ़ाया। सेना के जवानों ने गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत करते हुए भारत माता की जयकार के नारे लगाए।
उन्होंने कहा कि हमें अपनी सैन्य परम्परा एवं वीर सैनिकों पर गर्व है, जो भौगोलिक एवं मौसम की विपरीत परिस्थितियों का अदम्य साहस एवं वीरता के साथ सामना कर देश की सीमाओं की रक्षा में हर समय तत्परता से खड़े है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि श्री बदरीनाथ धाम में उत्तर प्रदेश विश्रामालय का भूमि पूजन एवं शिलान्यास हुआ। यह एक बड़ी उपलब्धि है। देशभर से लाखों श्रद्धालु एवं पर्यटक यहां आते हैं, इस पर्यटक आवास गृह के निर्माण से श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों के लिए एक और सुविधा उपलब्ध हो जाएगी।
उन्होंने कहा कि योगी जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश जैसा विशाल राज्य आज विकास के पथ पर तेजी से अग्रसर है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने श्री बदरीनाथ धाम में बर्फ के कारण यातायात एवं अन्य व्यवस्था सुचारू रखने के लिए जनपद चमोली को एक करोड़ रुपये देने की घोषणा की, ताकि श्रद्धालुओं को यहां आने जाने में कोई कठिनाई न हो।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज उन्हें कई वर्षों के बाद भगवान श्री बद्री विशाल के दर्शन करने का सौभाग्य मिला है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के नेतृत्व में उत्तराखंड सरकार के इन सभी कार्यों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के विकास के लिए किए जा रहे सभी प्रयासों के लिए हृदय से उनका अभिनन्दन करते हैं। उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बीच पिछले 18-20 वर्षों से परिसम्पत्तियों के हस्तान्तरण से सम्बन्धित बहुत से विवाद चले आ रहे थे।
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी ने अपने रचनात्मक और सकारात्मक पहल से इन सभी समस्याओं का समाधान करने में सफलता प्राप्त की है। इसके परिणामस्वरूप ही हरिद्वार में अलकनन्दा होटल जो उत्तर प्रदेश पर्यटन निगम का था, जिस पर लम्बे समय से विवाद था। दोनों राज्यों की सरकारों ने आपसी सहमति से तय किया कि अलकनन्दा होटल उत्तराखंड सरकार को सौंपेगे और उत्तर प्रदेश सरकार उसी के पास भागीरथी पर्यटन आवास गृह बना रही है। इस अतिथि गृह का निर्माण लगभग पूर्ण हो चुका है। हरिद्वार कुंभ से पहले इसे जनता को समर्पित किया जाएगा।
 उन्होंने कहा कि संतों एवं योगियों ने अपनी साधना, योग एवं तप से इस पावन धरती को पवित्र किया है। योगराज सुन्दरनाथ जी की तपस्थली भी श्री बदरीनाथ में है। यहां पर योगराज सुन्दरनाथ जी की गुफा भी है। उन्होंने इच्छा जताई कि उत्तराखड सरकार उनकी गुफा का पुनर्रूद्धार करे तो बहुत अच्छा कार्य होगा।

LEAVE A REPLY