मारा गया मूर्ख चूहा

0
275
short stories

एक बिल्ला, जिसने युवावस्था में बहुत सारे चूहों को पकड़ कर खाया था, अब बूढ़ा हो चुका है। उसमें पहले जैसी फुर्ती नहीं है। वह तो किसी तरह अपने दिन गुजार रहा है। अब वह पहले की तरह तेजी से चूहों को नहीं पकड़ पा रहा है। उसको किसी न किसी ट्रिक से शिकार करना पड़ रहा है।

एक दिन वह कोई बहाना सोच रहा था कि चूहों को किस तरह बिना दौड़भाग किए पकड़ा जाए। वह अपनी पीठ के बल लेट गया। उसके पैर आसमान की ओर हो गए। वह मरने का बहाना बना कर पड़ा था। तभी एक चूहे की उस पर नजर पड़ गई। चूहा काफी देर तक उसको एक ही तरह लेटे हुए देख रहा था। चूहे को विश्वास हो गया कि बिल्ला मर गया। किसी बिल्ले का मरना तो चूहों के लिए खुशी की बात है।

वह यह खुशखबरी अपने दोस्तों तक जल्द से जल्द पहुंचाना चाहता था। वह दौड़ता हुए दोस्तों के पास पहुंचा और बोला, चलो सभी जश्न मनाओ, हमारा दुश्मन बिल्ला मर गया है। उसके साथ बहुत सारे चूहे वहां पहुंच गए, जहां बिल्ला पड़ा था। सभी उसके आसपास ही खुशी मनाते हुए नाचने लगे। चूहे नाचने में इतने मगन हो गए कि उनको पता ही नहीं चला कि वो बिल्ले के काफी पास तक पहुंच गए हैं।

इनमें से एक चूहा तो इतना उत्साहित हो गया कि वह बिल्ले के सिर पर खड़ा होकर नाचने लगा। उसने बिल्ले के सिर पर खड़े होकर कहा, दोस्तों मेरे पास आओ। घबराने की बात नहीं है, यह मर गया है। बिल्ला तो बहाना बना रहा था। जैसे ही उसने महसूस किया कि बहुत सारे चूहे उसके बहुत नजदीक आ गए हैं, उसने फुर्ती दिखाते हुए कुछ चूहों को पकड़ लिया। बिल्ले के सिर पर नाच रहा चूहा भी मारा गया। तभी तो कहते हैं कि अतिउत्साह में आकर कोई फैसला नहीं करना चाहिए। दिमाग से काम जरूर लेना चाहिए।

 

LEAVE A REPLY