Valley of flower

0
455

Sashi Dewli

शशिदेवली

फूलों की घाटी

कुदरत ने जो बिखेरी है ये वो
चादर है हसीन वादियों में,
खिला है हर रंग-रूप यहाँ
क्या छटा है पाई इन घाटियों ने ।
इस हँसी  जहाँ में जन्नत का
ये नजारा और कहाँ,
भूल कर उस शहर की भीड़ को             valley of flower-2
खुद को खोज लो यहाँ तन्हाइयों में।
खूबसूरती इसकी बेहिसाब
अल्फाजों में भी कहाँ सिमट पायेगी
ये नूर और रंगत का शबाब है
खुशबू  ही तो बिखरायेगी ।
इस मुक्कमल जहाँ में
न मुनासिब है कहीं
ये वो हसीन ख्वाब सा है
जिसे देख जिन्दगी यूँ ही
सँवर जायेगी ।
विरासत है ये पहाड़ की
जिसे संजोए हुए रखना है
फूलों का शहर है इत्र से सजा
जिसे प्यार में डुबोए हुए रखना है ।
पसरा है जो वादियों में
एक नजारा हकीकत कहता
उस कहानी को हसीन सुरों में
सजाये हुए रखना है ।।
  • शशिदेवली, गोपेश्वर चमोली 

LEAVE A REPLY