कभी झूठ नहीं बोलने वाले की परीक्षा

0
136
short stories

एक बार अफ्रीका के किसी गांव में एक बुद्धिमान व्यक्ति रहता था। वह कभी झूठ नहीं बोलता था और न ही उसने पहले कभी झूठ बोला था। यह बात वहां रहने वाले सभी लोग जानते थे। एक बार वहां के राजा ने उसके बारे में सुना और अपने सेवकों को आदेश दिया कि उस व्यक्ति को मेरे सामने पेश किया जाए।

वह व्यक्ति राजा के सामने पेश हुआ। राजा ने उससे पूछा, मैंने सुना है तुम झूठ नहीं बोलते, क्या यह बात सही है। उस व्यक्ति ने कहा, जी यह बात सही है। मैं कभी झूठ नहीं बोलता। मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा और न ही कभी झूठ बोला है। ऐसा मेरा यकीन है। राजा ने कहा, यह अच्छी बात है, लेकिन ध्यान रहे। झूठ बहुत चालाक होता है और आसानी से जीभ पर आ जाता है।

इस बात को कई दिन बीत गए। राजा ने एक बार फिर उस व्यक्ति को बुलाया। राजा के सैनिक ने घोड़े की लगाम संभाल रखी थी। राजा का बायां पैर रकाब (घोड़े पर बैठते समय पैर रखने वाला कुंडा) पर था। जबकि दायां पैर जमीन पर था। राजा के पास काफी लोगों की भीड़ थी। राजा ने उस व्यक्ति से कहा कि मैं शिकार पर जा रहा हूं। तुम मेरे ग्रीष्मकालीन महल में जाओ और रानी को बताओ कि मैं उनके साथ दोपहर का भोजन करूंगा। उनसे एक बड़ी दावत की तैयारी करने के लिए कहो। तुम भी मेरे साथ खाना खाओगे।

इस पर वह व्यक्ति दौड़ता हुआ रानी के पास पहुंचा। उसके वहां से चले जाने के बाद राजा हंसने लगा। राजा ने अपने सेनापति से कहा, देखना अब यह झूठ बोलेगा। क्योंकि मैं शिकार पर नहीं जा रहा हूं। न ही मुझे रानी के साथ दोपहर का भोजन करना है। राजा ने कहा, कल सबको मालूम हो जाएगा कि कभी झूठ नहीं बोलने वाला व्यक्ति भी झूठ बोल गया। राजा के साथ उनके सेनापति और अन्य दरबारी हंसने लगे।

वह बुद्धिमान व्यक्ति महल में पहुंचा और रानी से कहा, हो सकता है कि आपको दोपहर के भोजन के लिए एक बड़ी दावत की तैयारी करनी पड़े। यह भी हो सकता है कि आपको दावत की तैयारी नहीं करनी पड़े। राजा दोपहर के भोजन के लिए आपके पास आएंगे या यह भी हो सकता है कि राजा यहां नहीं आएंगे। रानी ने पूछा, सही- सही बताओ, कहना क्या चाहते हो। राजा यहां आएंगे या नहीं।

इस पर बुद्धिमान व्यक्ति ने कहा कि मुझे सही अंदाजा नहीं है। राजा ने अपना बायां पैर रकाब पर रखा था और उनका दाहिना पैर जमीन पर था। इसलिए मुझे अंदाजा नहीं हो सका कि राजा शिकार पर जाएंगे या नहीं। वहां मैंने देखा था कि सब लोग राजा का इंतजार कर रहे थे। ऐसे में मुझे लगा था कि राजा कहीं से आए थे। वह कहीं जा नहीं रहे थे।

दूसरे दिन राजा ने उस व्यक्ति को बुलाया और पूछा कि क्या तुमने कल झूठ नहीं बोला। मैं तो शिकार पर नहीं गया था। इस पर उस व्यक्ति ने पूरी बात बता दी, जो उसने रानी से कही था। उसने एक-एक शब्द बता दिया, जो रानी से कहा था। इस पर राजा को एहसास हुआ कि बुद्धिमान व्यक्ति कभी झूठ नहीं बोलता। वह केवल वही कहता है, जो वह अपनी आंखों से देखता है। (African folktales)

LEAVE A REPLY