अपने तौलिया के बारे में जान लीजिये ये बातें

0
469
towels

आप रोजाना टीवी या न्यूजपेपर में नहाने के साबुनों के विज्ञापन देखते हैं। हर कोई अपनी खासियत बताने के लिए विज्ञापनों पर करोड़ों रुपये बहा रहा है। क्या आपको मालूम है कि साबुन कोई सा हो, शरीर से कीटाणुओं और बैक्टीरिया को पूरी तरह खत्म नहीं कर सकता। नहाने के बाद शरीर को पोंछने के लिए इस्तेमाल टॉवेल पर ये कीटाणु चिपक जाते हैं।

अगर घर में एक ही टॉवेल कई लोग इस्तेमाल कर रहे हैं तो तय मानिये एक दूसरे के शरीर के कीटाणु और बैक्टीरिया टॉवेल के जरिये ट्रांसफर हो जाते हैं। एक व्यक्ति -एक टॉवेल का नियम फॉलो नहीं किए जाने की वजह से एक्जिमा, फंगल इन्फेक्शन और त्वचा संबंधी रोग होने की आशंका रहती है। एक बात और ध्यान देने की है कि गीले टॉवेल से त्वचा पर संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ सकता है। गीले टॉवेल को दोबारा यूज करने से पहले धूप में सुखाया जाए, नहीं तो खुजली की समस्या हो सकती है। जरूर पढ़ें-  घुटने के दर्द के कारण और निवारण

हम आपको बताते हैं कि टॉवेल के इस्तेमाल में क्या सावधानियां बरती जानी चाहिए। तौलिया को रोजाना या एक दिन छोड़कर धो लिया जाए तो बेहतर होगा। तौलिया को दोबारा इस्तेमाल करने से पहले धूप में अच्छी तरह सुखा लेना चाहिए, क्योंकि धूप में सुखाने से बैक्टीरिया और कीटाणु या तो मर जाते हैं या निष्क्रिय हो जाते हैं, जिससे रोग का संकट कम हो सकता है। इस बात पर खासतौर पर ध्यान दीजिए कि आपकी नहाने के बाद शरीर पोंछने, टॉयलेट के बाद हाथ पोंछने, मुंह पोंछने की तौलिया अलग-अलग हों तो ज्यादा बेहतर होगा। टॉवेल को कभी भी नमी वाली जगह पर सूखने के लिए न डालें। नमी में बैक्टीरिया पनपने की ज्यादा आशंका होती है।  जरूर पढ़ें- लिवर के लिए खतरनाक हो सकता है रात में काम

नहाने के बाद टॉवेल से शरीर को हमेशा चेहरे से पैरों की ओर पोंछे, ताकि बैक्टीरिया चेहरे और मुंह के संपर्क में कम से कम आएं। तौलिया को कभी भी अंडरगारमेंट्स के साथ न धोया जाए। छोटे बच्चों की तौलिया अलग ही रखें तथा इसको एंटी जर्म लिक्विड मिलाकर धोएं तो ज्यादा बेहतर होगा। जरूर पढ़ें- वजन घटाना है तो यह बात जानिए

LEAVE A REPLY